Raisen Fort history: रायसेन किले का पूरा इतिहास, किले में राजा ने काटा था रानी का सर

By Vikash Pandit

Published on:

Follow Us
Raisen Fort history

Raisen Fort history: रायसेन किले का पूरा इतिहास, किले में राजा ने काटा था रानी का सर

Raisen Fort history

रायसेन किला, जिसे राणा किला भी कहा जाता है, मध्य प्रदेश के रायसेन जिले में स्थित एक ऐतिहासिक किला है। यह एक पहाड़ी पर स्थित है और इसके सुरक्षा के लिए निर्माण किया गया था।

प्राचीन इतिहास:

रायसेन किले का इतिहास प्राचीन काल में शुरू हुआ था जब इसे पहाड़ी पर एक सुरक्षात्मक संरचना के रूप में निर्माण किया गया था। इस किले की असली उत्पत्ति के बारे में स्पष्टता नहीं है, लेकिन पुरातत्त्विक साक्ष्य इसे 6वीं शताब्दी सी.ई. के रूप में निवास किया जा सकता है।

मध्यकालीन काल:

मध्यकाल में, रायसेन किला अपनी पहाड़ी पर स्थिति के कारण एक महत्वपूर्ण बस्ती के रूप में प्रसिद्ध हुआ। इसे विभिन्न वंशों द्वारा शासित किया गया, जैसे कि परमार, मुघल, और मालवा के सुल्तान।

राजा भोज का काल:

राजा भोज के शासनकाल में, रायसेन किला इसकी रक्षा क्षमता और वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध हुआ। राजा भोज को कई संशोधनों और परिवर्तनों का श्रेय जाता है, जिसने किले को और भी मजबूत और सुंदर बनाया।

मुघल शासन:

16वीं सदी में, रायसेन किला मुघल साम्राज्य के अधीन आया। मुघल ने किले को और भी मजबूत और दुर्गवत बनाया और इसे क्षेत्र के नियंत्रण के लिए एक सैन्य आधिकारिक केंद्र के रूप में उपयोग किया।

मराठा प्रभाव:

18वीं सदी में, रायसेन किला संक्षिप्त अवधि के लिए मराठा साम्राज्य के अधीन आया। मराठे ने किले में नई संरचनाओं और रक्षात्मक संरचनाओं को जोड़ा।

ब्रिटिश शासन:

19वीं सदी के आरंभ में, रायसेन किला ब्रिटिश पूर्व भारत कंपनी के हाथों में आया। ब्रिटिश इसे प्रशासनिक कारणों के लिए उपयोग किया और इसे अपने कब्जे में रखा।

स्वतंत्रता आंदोलन:

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान, रायसेन किला स्वतंत्रता सेनानियों के लिए एक आवास के रूप में कार्य किया। यहां स्वतंत्रता संघर्ष के कई उदाहरण देखे गए।

स्वतंत्रता के बाद:

1947 में भारत की आजादी के बाद, रायसेन किला का राजनैतिक महत्व गवारा हो गया। हालांकि, हाल ही में प्रयास किए जा रहे हैं ताकि किला सांस्कृतिक धरोहर के रूप में संरक्षित और सुरक्षित रह सके।

आज की स्थिति:

आज, रायसेन किला भारतीय इतिहास और सांस्कृतिक धरोहर का महत्वपूर्ण स्मारक है। इसकी विशेषता और संरचना की सुंदरता के कारण यहां के पर्यटक आकर्षित होते हैं। सरकार द्वारा इसके संरक्षण और विकास के लिए कई पहल की जा रही हैं।

इस प्रकार, रायसेन किला ने मध्य प्रदेश और भारत के इतिहास को अपने साक्षात्कार के रूप में गहराई से छू लिया है। यहां का विरासत और इतिहास उसके पर्यटकों को आकर्षित करता है और उन्हें यहां के ऐतिहासिक महत्व के बारे में जानकारी प्राप्त करता है।

Raisen Fort history
Raisen Fort history

Leave a Comment